सोमवार, 24 मई 2021

सिक्यूटा वाइरोसा ( CICUTA VIROSA ) के व्यापक लक्षण, मुख्य रोग तथा फायदें

Cicuta Virosa 30, 200 uses in hindi, Cicuta Virosa uses in hindi

सिक्यूटा वाइरोसा ( CICUTA VIROSA ) के व्यापक लक्षण, मुख्य रोग तथा फायदों का वर्णन -

  • ऐंठन में फायदेंमंद
  • मानसिक कमज़ोरी
  • एग्जीमा जैसे फोड़े - फुंसी

" ऐंठन में फायदेंमंद "

मिर्गी, हिस्टीरिया और फुंसी रोगों के दब जाने से मानसिक रोग जो ऐंठन का रूप ले लेते हैं । 

बच्चों के दांत निकलते समय ऐंठन होना सिक्यूटा वाइरोसा के ही लक्षण हैं । यह ऐंठन सिर , आँख और गले से शुरु होकर पीठ के नीचे से होती हुई हाथ - पांव की तरफ फैलती हैं ।  

" मानसिक कमज़ोरी "

याद्दास्त की कमी इस औषधि का अद्भुत लक्षण हैं । रोगी से डॉ द्वारा जो कुछ पूछा जाता हैं, वह उसका सही - सही उत्तर देता हैं ।  परन्तु बाद में उसे कुछ याद नहीं रहता कि क्या हुआ हैं और उसने क्या जवाब दिया हैं ।  

सिक्यूटा वाइरोसा का रोगी कोयला आदि जैसे चीजे खाता हैं क्योकि उसे इस बात का भी पता नहीं रहता कि क्या खाने की वस्तु है और क्या नहीं है । वह बच्चो की तरह हरकते करता है। जैसे - नाचता हैं , गाता हैं , चिल्लाता हैं और शोर मचाता हैं क्योकि उसे अपने - आप का यथार्थ ज्ञान नहीं रहता । 

वृद्ध पुरुष भी बच्चों की तरह बरताव करने लगते हैं ।  अपने मित्रों और परिचित व्यक्तियों को भी नहीं पहचानता और उन्हे अजनबी की तरह देखता हैं । उन्हें देख कर आश्चर्य करने लगता हैं कि क्या ये वही व्यक्ति हैं जिन्हें वह कभी जानता था । अपने विषय में भी वह सब कुछ भूल जाता हैं । उसे याद नहीं रहता कि उसकी क्या आयु है । 

स्त्री को जब दौरा पड़ता हैं और उसमे से निकलने के बाद वह बच्चों की तरह हरकते करने लगती हैं । 

ऐसी कई घटनाए होती हैं जैसे - बचपन में सिर पर चोट लगने से व्यक्ति भी अपंग हो गया और युवा अवस्था तक वह बच्चा ही बना रहा हो, तो उन्हें सिक्यूटा वाइरोसा 200 की मात्रा कुछ समय देने से उसका मस्तिष्क ठीक हो जाता हैं। अर्थात उसके मस्तिष्क का विकास होना शुरू हो जाता हैं ।

" एग्जीमा जैसे फोड़े - फुंसी "

यह औषधि एग्जीमा जैसे फोड़े - फुंसी को भी ठीक कर देती हैं , जो एक साथ  मिलकर एक पीली पपड़ी तक बना देते हैं । 

जैसे - किसी रोगी का सिर पर इस प्रकार एग्जीमा से भरा जैसे कोई टोपी रखी हो तो ऐसे रोगी को सिक्यूटा वाइरोसा की 200 शक्ति की एक मात्रा से वह बिल्कुल ठीक हो जाता हैं । 

खोपड़ी और दाढ़ी के बालो के अंदर होने वाली फुंसियों को भी यह औषधि ठीक कर देती हैं ।


 


0 comments:

एक टिप्पणी भेजें