सोमवार, 17 मई 2021

कार्बो एनीमैलिस ( CARBO ANIMALIS ) के व्यापक लक्षण, मुख्य रोग व फायदें

CARBO ANIMALIS uses in hindi

कार्बो एनीमैलिस ( CARBO ANIMALIS ) के व्यापक लक्षण, मुख्य रोग व फायदें विस्तार से जानते हैं-

  • ग्रन्थियों का कड़ापन - प्लेग , कैंसर , ट्यूमर
  • ग्रंथि शोथ में कार्बो एनीमैलिस तथा बेलाडोना की तुलना  
  • मासिक धर्म तथा प्रदर में मरणासन जैसी अवस्था 
  • थोड़ा सा बोझ उठाने से पैर में मोच आ जाना
  • त्वचा पर तांबे के रंग जैसी फुंसियां

" कार्बो एनीमैलिस की प्रकृति "

रोगी के गर्म कमरे में रहने से और हाथ से दबाने पर आराम मिलता हैं। जबकि ठंडी हवा से , हजामत के बाद और रजोधर्म के बाद रोग में वृद्धि होती हैं।

" प्रन्थियों का कड़ापन - प्लेग, कैंसर, ट्यूमर "

कार्बो एनीमैलिस एक गहन क्रिया करने वाली औषधि हैं । इसकी शिकायतें रोग को लेकर चुपके - चुपके आती है , धीरे - धीरे बढ़ती हैं , और जब प्रकट होती हैं, तब तक घातक रूप धारण कर लेती हैं । शरीर की ग्रंथियों पर इसका विशेष प्रभाव होता हैं । शरीर के जिन अंगों में भी ग्रन्थियों में कड़ापन होता हैं, उसे कार्बो एनीमैलिस दूर कर देती हैं । जांघ , सीने आदि मे गिल्टियों के सूज जाने और उनके कड़ा पड़ जाने में यह औषधि खास उपयोगी हैं । सुज़ाक और आतशक की गिल्टिया जब कड़ी पड़ जाती हैं, तब भी इस औषधि से लाभ होता हैं । 

कैंसर और ट्यूमर में भी गिल्टियों का कड़ापन होता हैं, इसलिए उन्हें भी कार्बो एनीमैलिस ठीक कर देती हैं । स्त्रियों के स्तन कैंसर में स्तन की गिल्टियाँ सूज जाती हैं , गर्भाशय के कैंसर में गर्भाशय का मुख अत्यन्त कड़ा पड़ जाता हैं, दर्द होता हैं और खून भी जाता हैं । इन सब गिल्टियो के कड़ेपन में कार्बो एनीमैलिस लाभप्रद होती हैं । कार्बो एनीमैलिस आँख के असाध्य ट्यूमर को भी ठीक कर देती हैं ।  

" ग्रंथि शोथ में कार्बो एनीमैलिस तथा बेलाडोना की तुलना "

बेलाडोना में ग्रंथियां सूज जाती हैं, छूने पर गर्म लगती हैं, जिन्हें स्पर्श नहीं किया जा सकता । पहले चमकदार लाली दिखाई देती हैं , फिर नीला पड़ जाता हैं और अगर इलाज न किया जाए तो फूट जाता हैं और पस पड़ जाती हैं । परन्तु कार्बों एनीमैलिस में ऐसा नहीं होता । इसमें ग्रन्थि का शोथ धीरे - धीरे होता हैं और पकने के बजाय कड़ी पड़ जाती है । 

" मासिक धर्म तथा प्रदर में मरणासन जैसी अवस्था "

स्त्रियों को मासिक धर्म बहुत जल्दी होता हैं, देर तक रहता हैं और बहुत ज्यादा खून आता हैं । इस औषधि की रोगी स्त्री प्रत्येक मासिक धर्म के समय इतनी कमजोर हो जाती हैं कि मरने के समान हो जाती हैं । ऐसी मरणावस्था जैसी कमजोरी प्रदर में भी होती हैं । 

" थोड़ा सा बोझ उठाने से पैर में मोच आ जाना "

थोडा सा भी बोझ उठाने पर रोगी के पांव में मोच पड़ जाती हैं । अत्यधिक कमज़ोरी  होने के कारण पैर के गिट्टे चलते हुए मूड जाते हैं । जोड़ो में अत्यधिक कमज़ोरी आ जाती हैं । रीढ़ की अन्त वाली हड्डी पर जोर पड़ने से उसमें दर्द होता हैं । 

" त्वचा पर तांबे के रंग जैसी फुंसियां "

चेहरे और शरीर पर तांबे के रंग की बेशुमार फुंसियां हो जाती हैं, जो कार्बो एनीमैलिस के इस्तेमाल से दूर हो जाती हैं। 

" कार्बो एनीमैलिस की शक्ति तथा प्रकृति "

कार्बो एनीमैलिस 6, 30 , 200 व अधिक शक्तियों में उपलब्ध हैं । यह शीत प्रकृति की औषधि हैं । होम्योपैथिक दवा का प्रयोग चिकित्सक की सलाह  से करें।


0 comments:

एक टिप्पणी भेजें