गुरुवार, 25 फ़रवरी 2021

आर्निका मौन्टेना ( ARNICA MONTANA ) औषधि के व्यापक लक्षण, मुख्य रोग व फायदें

आर्निका मौन्टेना  ( ARNICA MONTANA ) औषधि के व्यापक लक्षण, मुख्य रोग व फायदों का विस्तार पूर्वक वर्णन-

  • चोट से शरीर में कुचले जाने सा अनुभव 
  • चोट लगने से किसी भी पुराने रोग की उत्पत्ति
  • बिस्तर का कठोरपन के कारण करवटें बदलते रहना 
  • टाइफॉयड में आर्निका मौन्टेना के लक्षण व फायदें
  • गठिया रोग में आर्निका मौन्टेना के लक्षण व फायदें
  • गर्भावस्था व प्रसव के बाद आर्निका मौन्टेना के फायदें 
  • किडनी , ब्लैडर , लिवर व न्यूमोनिया में आर्निका मौन्टेना का उपयोग

आर्निका मौन्टेना औषधि की प्रकृति - सिर नीचा करके लेटने व अंग फैलाकर लेटने से रोग के लक्षणों में कमी आती हैं। जबकि शरीर पर चोट या रगड़ से, खाने से,  शारीरिक व मानसिक आघात से, शारीरिक श्रम, मोच, हिलने - डुलने और वृद्धावस्था में रोग के लक्षणों में वृद्धि होती हैं।

चोट से शरीर में कुचले जाने सा अनुभव - जब चोट के कारण ऐसा अनुभव हो कि सारा शरीर कुचल गया हैं , शरीर को हाथ लगाने से ही दर्द होता है । ऐसा सारे शरीर में किसी अंग में हो सकता हैं । रोगी किसी को भी अपना अंग छूने नहीं देता । चोट लगने में सबसे पहले आर्निका मौन्टेना की तरफ ध्यान जाता हैं, और ज्यादा असरकारक मानी जाती हैं।  

चोट लगने से किसी भी पुराने रोग की उत्पत्ति - अगर चोट लगने से कोई भी पुराना रोग शुरु हुआ हो, चाहे चोट लगे कितने ही वर्ष बीत गये हो, उसे आर्निका मौन्टेना ठीक कर देती हैं । जैसे- चोट लगने के बाद मृगी आना , ऐंठन , हृदय की धड़कन , नकसीर , गठिया आदि रोग हो तो आर्निका मौन्टेना देना चाहिये । जिन लोगों के शरीर पर किसी शारीरिक घाव का प्रभाव बना रहे , चाहे वह घाव सामान्य ही क्यों न हो, उसमें  आर्निका मौन्टेना लाभ पहुँचाती हैं। 

बिस्तर का कठोरपन के कारण करवटें बदलते रहना - रोगी के सारे शरीर में चोट लगने जैसा दर्द होता हैं । रोगी जिस तरफ भी लेटता हैं, उसे बिस्तर कठोर लगता हैं । इस कारण वह मुलायम जगह ढूंढने के लिये करवटें बदलता रहता हैं । 

टाइफॉयड में आर्निका मौन्टेना के लक्षण व फायदें -  ज्वर में जब टाइफॉयड के लक्षण प्रकट होने लगें । जैसे- जब जीभ चमकदार हो जाए, दातों और होठों पर दुर्गन्धयुक्त मल जमने लगे , जी घबराए और संपूर्ण शरीर में कुचले जाने जैसी पीड़ा हो, तब आर्निका मौन्टेना देने से टाइफॉयड़ की तरफ जाने से रोगी बच जाता हैं। टाइफॉयड़ की दूसरी औषधि बैप्टीशिया हैं। परन्तु दोनों के लक्षण एक  जैसे हो सकते हैं , परन्तु दोनों में अन्तर हैं । 

गठिया रोग में आर्निका मौन्टेना के लक्षण व फायदें - पुराने से पुराने गठिया का रोगी जोड़ों में नाजुकपन व दर्द अनुभव करता हैं। जोड़ों के दर्द में आर्निका मौन्टेना की एक खुराक देने से तकलीफ दूर हो जाती हैं । 

गर्भावस्था व प्रसव के बाद आर्निका मौन्टेना के फायदें - गर्भावस्था में माता के जरायु तथा कोख में नाज़ुकपन आ जाता हैं। जिससे भ्रूण के हिलने - डुलने से भी गर्भाशय में दर्द होने लगता हैं और रात को नींद नही आती । इस दशा में आर्निका मौन्टेना की 200 शक्ति की एक मात्रा देने से दर्द शांत हो जाता हैं । इसी प्रकार प्रसव के बाद आर्निका मौन्टेना की उच्च शक्ति की एक मात्रा देने से सेप्टिक होने का खतरा नही रहता । प्रसव के बाद माता को मूत्र न आने पर भी आर्निका मौन्टेना उपयोगी होती हैं । 

किडनी , ब्लैडर , लिवर व न्यूमोनिया में आर्निका मौन्टेना का उपयोग - यदि टीबी , अल्सर, कैंसर या न्यूमोनिया, ये रोग जिस प्रकिया से गुजरते हैं , उस प्रक्रिया में गुजरते हुए ये घातक रोग हो जाते हैं । इसी आधार पर इसे आर्निका मौन्टेना का गुण समझ लिया जाता है । अगर गुर्दे , मूत्राशय , यकृत् आदि के रोग में शरीर के शोथ के साथ संपूर्ण शरीर में कुचले जाने की अनुभूति हो , तो आर्निका मौन्टेना अवश्य लाभ करती हैं । होम्योपैथिक में रोग का इलाज नहीं होता , रोगी का इलाज होता हैं।  

आर्निका मौन्टेना औषधि के अन्य लक्षण 

> ज्वर में आर्निका मौन्टेना के रोगी का सिर तथा शरीर का ऊपरी हिस्सा गर्म होता है और हाथ पैर तथा नीचे के भाग ठंडे होते हैं । 

> अपेन्डिसाइटिस में अगर चिकित्सक को ब्रायोनिया , रसटॉक्स , बेलाडोना और आर्निका मौन्टेना की पूरी जानकारी हो , तो रोगी को सर्जन के पास जाने की जरूरत नहीं पड़ती । लेकिन रोग का बार - बार आक्रमण न होता हो । 

> मानसिक लक्षण - आर्निका मौन्टेना का रोगी किसी को अपने पास नहीं आने देता, क्योंकि वह किसी से बातचीत नही करना चाहता और उसका शरीर कुचले जाने के दर्द से इतना व्याकुल होता हैं, कि किसी के छूने से भी डरता हैं । वह बात इसलिये नहीं करता क्योंकि वह चिड़चिड़ा , दुखी , शोकाकुल , भयभीत रहता हैं , वह मानता है कि वह किसी भयानक रोग से पीड़ित हैं । आर्निका मौन्टेना के रोगी को रात को सपने में मृत्यु का होता हैं । रात को तरह - तरह के डरावने सपने आते है, तो आर्निका मौन्टेना लाभप्रद होती हैं । 

आर्निका मौन्टेना औषधि की शक्ति - यह औषधि 3, 30, 200 व 1000 की शक्ति में उपलब्ध हैं ।


0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें