सोमवार, 12 अक्तूबर 2020

एब्रोटेनम ( ABROTANUM ) औषधी के व्यापक लक्षण , मुख्य रोग और उपयोग व फायदें

एब्रोटेनम ( ABROTANUM ) औषधी के व्यापक - लक्षण , मुख्य - रोग और फायदो को विस्तार से जानते है । 

बच्चे के सूके के रोग मे नीचे से सूकना - बच्चे के सूके के रोग मे इस औषधी की बहुत अधिक उपयोगिता है । इस औषधि के सूके में सब से पहले नीचे के अंगो मे दुबलापन आना शुरू होता है , सूकापन नीचे से ऊपर की तरफ बड़ता है । चेहरा सब से बाद में सूकने लगता है । और एब्रोटेनम में सबसे पहले टांगे सूकनी शुरू हैं , ऊपर का धड़ बाद मे सूकता है।

एक बीमारी के दबने से दूसरी बीमारी का हो जाना  - प्राय देखा जाता है कि जब एक बीमारी हटती है तब दूसरी बीमारी उठ खडी होती है । ऐसी स्थिति में  एब्रोटेनम औषधी लाभकारी होती है । इसे कुछ उदाहरणों से समझते हैं- 

  1. गठिये के रोगी को यदि पतले दस्त आते रहें तो दर्द कम हो जाता है और अगर कब्ज हो जाती हैं तो दर्द बढ़ जाता है। 
  2. कर्णमूल ( Mumps ) की सूजन दब जाने से पुरुषो मे पोते तथा स्त्रियो मे स्तन की सूजन हो जाती है । 
  3. मालिश द्वारा गठिये के दब जाने से दिल की तकलीफ हो सकती है । 
  4. गठिया या दस्त के ठीक होने पर बवासीर के लक्षण उभरने लगते हैं । 
  5. दस्त एकदम बन्द हो जानेे पर गठिया की शिकायत हो जाती है । 

एब्रोटेनम और पल्सेटिला मे भेद की पहचान - एक रोग के हटने पर दूसरे रोग के प्रकट हो जाने मे एब्रोटेनम और पल्सेटिला दोनो काम आते हैं , परन्तु इन दोनो मे भेद यह है कि जहा एब्रोटेनम मे एक रोग के दबने से दूसरा जो रोग पैदा होता है उसका पहले रोग से कोई सम्बन्ध नही होता , वहा पल्सेटिला से जो रोग दबा है वो दूसरे स्थान मे चला जाता है । उदाहरणार्थ - 

एब्रोटेनम मे दस्त दब कर गठिया हो सकता है , बवासीर हो सकती है , कर्णमूल की सूजन दब कर पोते बढ सकते हैं । इस प्रकार जो रोग पैदा हो जाता है उसे एलोपैथीक का एक नया रोग कहते हैं , परन्तु होम्योपैथीक  मे इसे नया रोग न कह कर पुराने रोग का ही रूपान्तर मानते हैं । पल्सेटिला मे गठिये का दर्द जब अपना स्थान बदलता है , तब एक जोड से दूसरे जोड मे चला जाता है , अगर सूजन है तो एक गिल्टी से दूसरी गिल्टी मे चली जाती है , अगर दर्द है तो एक अंग से दूसरे अंग मे चला जाता है । पल्सेटिला मे रोग वही रहता है , केवल स्थान बदलता है , एब्रोटेनम मे रोग अपना रूप ही बदल देता है , एलोपैथिक परिभाषा में पहला रोग दब कर एक नया रोग बन जाता है , यद्यपि होम्योपैथी के अनुसार वह नया रोग न होकर पुराने रोग का ही रूपान्तर होता है । 

इस औषधि का अन्य लक्षणों मे भी प्रयोग किया जाता है । 

बच्चों की अण्ड - वृद्धि मे यह औषधि लाभ देती है । बच्चो की नाक  से खून बहने को यह रोकती है मतलब बच्चो की नकसीर मे यह लाभप्रद औषधि है । 

एब्रोटेनम औषधि की प्रकृति व शक्ति - यह औषधि लगभग सभी शक्तीयों में उपलब्ध है, दवा का इस्तेमाल चिकित्सक की सलाह मे ही करे और और उचित शक्ति का सेवन करे ।    


0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें